गरीब

"गरीब वह नहीं जो रूखी-सूखी रोटी खाकर सो रहा है गरीब वह है जिसके पास छप्पन-भोग तो हैं पर बीमारियों की वजह से खाए बगैर सो रहा है।"

आचार्य उदय

3 comments:

Akhtar Khan Akela said...

uday bhayai aapne to sch bdqismt logon ki dukhti ns pr hath rkh diyaa jo nirogi kaya nhin voh kese amir ho sktaa he , akhtar khan akela kota rajsthan

दिगम्बर नासवा said...

सच है ... असली गरीब वही है ..

प्रवीण पाण्डेय said...

सच है, वही निर्धन है।