हम इस संसार के सबसे बड़े मूर्ख हैं !

"यदि हम यह जान सोच कर काम कर रहे हैं कि इस संसार से जाते समय कुछ--कुछ साथ में लेकर जायेंगे तो यह हमारी मूर्खता है तात्पर्य यह है कि हम इस संसार के सबसे बड़े मूर्ख हैं।"
आचार्य उदय

3 comments:

Mrs. Asha Joglekar said...

Yahee samaz men aajay to itane ghaple ghotale hee kyun hon .

दिगम्बर नासवा said...

Sahi kaha hai ...
khali haath jaana hai ...

प्रवीण पाण्डेय said...

यही तो विडम्बना है।