गुनहगार

"पाप कर्मों से कमाई गई दौलत के हिस्से को दान-पुण्य में लगाने से हम दिखावे के लिए धर्मात्मा बन सकते है किन्तु सत्य तो यही रहेगा की हम ईश्वर की नज़रों में गुनहगार हैं।"
आचार्य उदय

4 comments:

Apanatva said...

saty vachan.

वन्दना said...

ईश्वर और अपनी दोनो की नज़रो मे गुनहगार्।

प्रवीण पाण्डेय said...

बात अपनी नज़रों में सत्य बने रहने की है।

दिगम्बर नासवा said...

Apni nazar to bas ham band kar kete ahin aise mein ...