सदैव पूज्यनीय

"जन्म देने वाली माँ एवं पालन पोषण करने वाली माँ दोनों का स्वरूप एक ही है तथा दोनों ही सदैव पूज्यनीय हैं ।"

आचार्य उदय

4 comments:

निर्मला कपिला said...

सत्य वचन।

KK Yadava said...

अच्छा वचन।

________________
'शब्द-सृजन की ओर' पर आज निराला जी की पुण्यतिथि पर स्मरण.

प्रवीण पाण्डेय said...

सच है।

शरद कोकास said...

सद्वचन