भाग्य

“भाग्य के भरोसे बैठना उचित नहीं है, कर्म भी भाग्य को सुनहरा बनाते हैं।”

आचार्य उदय

1 comment:

Sunil Kumar said...

सही बात