सपने

"सपने देखना जितना महत्वपूर्ण है उससे कहीं ज्यादा महत्वपूर्ण सपनों को साकार करने हेतु उठाए गये कदम हैं"

आचार्य उदय

6 comments:

Udan Tashtari said...

आभार सदविचार का.

विनोद कुमार पांडेय said...

सही बात....सुंदर वचनामृत के लिए धन्यवाद

Arvind Mishra said...

सही

प्रवीण पाण्डेय said...

सच्ची और गहरी बात

दिगम्बर नासवा said...

निश्चित रूप से ...

रवि कान्त शर्मा said...

आँख बन्द करके देखे गये सपने कभी पूरे नहीं होते हैं, आँख खोलकर देखे गये ख्वाब अवश्य पूरे हो सकते हैं।