धर्म

" भूख, नींद, सेक्स, जन्म, मृत्यु का कोई धर्म नहीं है।"

आचार्य उदय

5 comments:

संजीव तिवारी .. Sanjeeva Tiwari said...

जय जय गुरूदेव

आदेश कुमार पंकज said...

बहुत सुंदर
आपकी जय हो
आपको मेरा सादर नमन

Divya said...

Pranaam Bandaparwar !

निर्मला कपिला said...

सत्य वचन । आभार

gaganjuneja said...

आचार्य जी आपने बहुत सही लिखा है.धन्यवाद