बंधन

" मनुष्य स्वतंत्र नहीं है क्योंकि वह हर क्षण नैसर्गिक कर्तव्यों व उत्तरदायित्वों के बंधन में जकडा हुआ है। "

आचार्य 'उदय'

2 comments:

सूर्यकान्त गुप्ता said...

तेरा तुझको अर्पण क्या लागे मेरा। प्रणाम गुरुदेव्।

अशोक बजाज said...

आचार्य जी आपके विचार उत्तम है .अशोक बजाज रायपुर